Monday, February 27, 2012

वक़्त ...

















पहले... 
तुम्हे देखते देखते 
रात हो जाया करती थी 
यूँ ही बैठे बैठे कुछ
बात हो जाया करती थी |

फिर...
मिटाया वक़्त ने सब कुछ इस तरह की 
सूनापन आँखें बयां करती है
जीना तो कब का छोड़ दिया
ज़िन्दगी पर साँसे दया करती है |

अब...
तुम्हे पता है 
तुम्हारे बिन, ये आँखें बहुत रोती है 
और बस तुम्हे याद करते करते ही सोती है |



17 comments:

  1. Beautiful. Loved every word of it!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर...
    प्यारी रचना के लिए आपको बधाई
    god bless u dear.

    ReplyDelete





  3. अरे ! रुचि जी … !
    आप तो पुरानी ब्लॉगर हैं !


    पहले…
    तुम्हे देखते देखते
    रात हो जाया करती थी
    यूं ही बैठे बैठे कुछ
    बात हो जाया करती थी

    ईश्वर उन दिनों को लौटा दे … आमीन !


    अब…
    ये आंखें तुम्हारे बिना बहुत रोती है
    और बस तुम्हे याद करते करते ही सोती है

    कविता तो कविता है लेकिन…
    मन के भावों की सुंदर कविता का करुण समापन !

    शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  4. प्रेम विकलता का सहज उदगार !

    ReplyDelete
  5. Nice Blog , Plz Visit Me:- http://hindi4tech.blogspot.com ??? Follow If U Lke My BLog????

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छी अभिव्यक्ति ,बहुत खूब लिखा है इस रचना के लिए आभार

    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है !
    सबसे पहले दक्ष को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें.!!
    Active Life Blog

    ReplyDelete
  7. Poignant but I loved the way you wrote last two lines...

    ReplyDelete
  8. फिर...
    मिटाया वक़्त ने सब कुछ इस तरह की
    सूनापन आँखें बयां करती है
    खूबसूरत अह्साशों से भरी बेहतरीन कविता प्रस्तुत की है आपने

    ReplyDelete
  9. मित्रवर
    आप से निवेदन है कि एक ब्लॉग सबका
    ( सामूहिक ब्लॉग) से खुद भी जुड़ें और अपने मित्रों को भी जोड़ें... शुक्रिया
    आप भी सादर आमंत्रित हैं,

    ReplyDelete
  10. यूँ ही बैठे बैठे कुछ
    बात हो जाया करती थी |

    अच्छी लगी आपकी कविता. मन को छूने वाली.

    ReplyDelete
  11. wow.. so intense.. I just loved the killer line "Zindagi pe saanse daya karti hai"..

    ReplyDelete
  12. और फिर सपने भी तो उसी के आते हैं!! :)

    ReplyDelete
  13. "तुम्हारे बिन, ये आँखें बहुत रोती है
    और बस तुम्हे याद करते करते ही सोती है " I liked these line very much...You wrote this poem very nicely:)

    Keep writing..:)

    ReplyDelete