Friday, April 13, 2012

तेरा साथ मिल जाये ...


फिर से जीने है कुछ सपने 
बस तेरा साथ मिल जाये 
बढ जायेंगे कदम अपने आप 
बस तेरा हाथ मिल जाये |

तुम ही कहते थे ना
बस यू ही हँसती रहा करो 
तुम खुश रहती हो तो 
मै भी खुश हो जाता हू |


फिर, अपनी खुशियों को अधूरा छोड़कर 
चले गए, तुम दूर कहाँ
जानती हू, सबकुछ पाकर भी 
ढूँढ़ते होंगे बस मुझे वहाँ

तुम ही कहते थे ना मुझसे
साथ रहना हमेशा मेरे 
फिर क्यों नही ले गए अपने साथ 
मै भी संग रहना चाहती थी तेरे 

फिर से कहना है तुमसे बहुत कुछ 
बस एक बात मिल जाये 
चल, फिर से शुरू करते है सिलसिला 
बस तेरा साथ मिल जाये |


24 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. विरह भावना का अच्छा चित्रण ..........

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ............

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  4. अनुपम भाव लिए सुंदर रचना...बेहतरीन पोस्ट लगी ,...रूचि जी,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  5. किसी के साथ होने पर हर कुछ संभव है!! :)

    ReplyDelete
  6. प्रभावशाली प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  7. nicely written...loved it...:)

    ReplyDelete
  8. फिर से कहना है तुमसे बहुत कुछ
    बस एक बात मिल जाये
    चल, फिर से शुरू करते है सिलसिला
    बस तेरा साथ मिल जाये |... badhiya

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रस्तुति, सार्थक कृति

    ReplyDelete
  10. Lovely poem. Ruchi, don't you think it should be jeene in the first line of the poem.

    ReplyDelete
  11. फिर से कहना है तुमसे बहुत कुछ
    बस एक बात मिल जाये
    चल, फिर से शुरू करते है सिलसिला
    बस तेरा साथ मिल जाये

    हृदय को स्पर्श करने वाली रचना।
    बहुत सुंदर!

    ReplyDelete
  12. Very nice. Simple and sweet!

    http://rachnaparmar.com

    ReplyDelete
  13. Nicely written. Good that I overcame my mental blocks and started reading Hindi as well. Mother tongue has greater power to bring out feelings from the heart than a foreign tongue.

    ReplyDelete
  14. Welcome

    http://www.islamhouse.com/p/208559

    ReplyDelete
  15. फिर से कहना है तुमसे बहुत कुछ
    बस एक बात मिल जाये
    चल, फिर से शुरू करते है सिलसिला
    बस तेरा साथ मिल जाये |

    जी हाँ यह सिलसिला शुरू होना ही चाहिये. सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  16. वायुवीय प्रेम की कोमल रचना बाल मन का कुहाँसा बिखेरती सब तरफ .आस से संसिक्त .

    ReplyDelete
  17. साथ मिल जाए तो सफर आसानी से कट जाए।

    ReplyDelete
  18. simply so great...the flow of every line was perfect

    ReplyDelete
  19. Congratulations!

    You've been Tagged.

    Please follow the link below to know about the tag more:
    http://rahul-aggarwal.blogspot.in/2012/04/ta-ta-tagged.html

    ReplyDelete
  20. तुम ही कहते थे ना मुझसे
    साथ रहना हमेशा मेरे
    फिर क्यों नही ले गए अपने साथ
    मै भी संग रहना चाहती थी तेरे

    bahut khoob
    ummdaa lines

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete