Wednesday, December 21, 2011

उड़ जा पंछी...



सोचा न था, दिन यू पलट जायेंगे 
एक सपना टूट जायेगा, रास्ते बदल जायेंगे |

एक आज़ाद पंछी ने
खुद को यू कैद कर लिया 
रंग उड़ गया पंखो का 
यादों मे सफ़ेद कर लिया |

वो रास्ता आज भी ताका करता
जवाब आज भी माँगा करता 
पर पागल पंछी, न जाने खुद को क्यों बर्बाद कर रहा
न जवाब मिलता न साथ, फिर क्यों याद कर रहा |

उड़ जा रे छोटे से पंछी 
शायद दिन फिर पलट जायेंगे
कोई रंग भरेगा तेरे सपनो मे 
रास्ते भी नए मिल जायेंगे |




21 comments:

  1. Profound and whats best about it Ruchi is that you wrote it in simple words. I don't like high sounding poems.

    Great, keep on writing:)

    ReplyDelete
  2. Hamesha ki tarah ....... Awesome....:P

    ReplyDelete
  3. रुची जी,..सुंदर अहसासों का रंग लिये प्यारी रचना,....अच्छी पोस्ट

    मेरे पोस्ट के लिए "काव्यान्जलि" मे click करे
    पोस्ट पर आने के लिए आभार,....

    ReplyDelete
  4. अपने कमेंट्स बॉक्स से वर्डवेरीफिकेसन हटा ले कमेंट्स करने में परेशानी
    और समय लगता है,......

    ReplyDelete
  5. Hindi padh ke dil ko bahut sukoon milta hai, jaane kyo :)
    I especially liked the lines **उड़ जा रे छोटे से पंछी
    शायद दिन फिर पलट जायेंगे
    कोई रंग भरेगा तेरे सपनो मे
    रास्ते भी नए मिल जायेंगे

    Bahut khoob :)

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा लगा आपका ब्लॉग और यह रचना भी!

    सादर
    ----
    जो मेरा मन कहे पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  7. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=L0nCfXRY5dk

    ReplyDelete
  8. कल 25/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. Very well crafted :)
    I like reading hindi poetry cause I myself suck at the language :P

    Thank you for dropping by :)

    ReplyDelete
  10. उड़ जा रे छोटे से पंछी
    शायद दिन फिर पलट जायेंगे
    कोई रंग भरेगा तेरे सपनो मे
    रास्ते भी नए मिल जायेंगे |


    बहुत अच्छी कविता ....

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  12. उड़ जा रे छोटे से पंछी
    शायद दिन फिर पलट जायेंगे
    कोई रंग भरेगा तेरे सपनो मे
    रास्ते भी नए मिल जायेंगे |
    सुन्दर भाव.... अच्छी रचना...

    मेरी क्रिसमस.

    ReplyDelete
  13. dard aur chatpataht ...apne vatan e ashma ko pane ki .....bahut hi sundar ...kalpana ki parakastha par ki gayi kalpana

    ReplyDelete
  14. bahut gehre panktiya,soch se bhare hue,
    you write so well in hindi too..so soothing to read

    ReplyDelete
  15. कोई रंग भरेगा तेरे सपनों में,
    रास्ते भी नये मिल जायेंगे।
    सुन्दर भाव,ख्याल भी अच्छे।
    नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें......

    ReplyDelete
  16. WAH ......SUNDAR RACHANA ...BADHAI RUCHI JI.

    ReplyDelete
  17. @Ruchi - It's a gr88 excitement to read ur pieces...they look like mine..and i loved the way u conclude your poems with hope....and hope is the best ingredient for life..

    ReplyDelete